Thursday, 15 November 2018

वर्ण-पिरामिड (69-70)


वर्ण-पिरामिड ( शीर्षक = धुआं / धूम्र / धुम्मा आदि समानार्थी शब्द)
----------------------------------------------------------------------------

हो 
धरा 
कचरा 
प्रदूषण 
वातावरण 
ज़हरीला धुआँ 
आरोप–प्रत्यारोप।   

हाँ 
धुआँ 
विकट 
ताज़ी हवा 
सांस दूभर
कैंसर विकार 
लानत भ्रष्टाचार।
----------------------
सर्वाधिकार सुरक्षित /त्रिभवन कौल 

काव्य रंगोली पत्रिका का अक्टूबर २०१८ के अंक में

मित्रों। लखीमपुर खीरी ( उत्तर प्रदेश ) से  प्रकाशित काव्य रंगोली पत्रिका का अक्टूबर २०१८ के अंक में , काव्य रंगोली के संस्थापक, प्रबंधक एवं प्रधान सम्पादक  आशुकवि श्री नीरज अवस्थी ने आपके  मित्र को पत्रिका का  अतिथि सम्पादक होने का सम्मान दिया और साथ में मेरी लघु कथा ' अंदेशा ' को भी इस प्रतिष्ठित पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। आशुकवि श्री नीरज अवस्थी जी का में हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ। सप्रेम।
=====================================================================




Monday, 12 November 2018

अखिल भारतीय साहित्य महोत्सव 2018



मित्रों ,आप सभी युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच के पंचम अखिल भारतीय साहित्य महोत्सव में आगामी 25 नवम्बर 2018 में सादर आमंत्रित हैं | आपकी उपस्थिति हमारे लिए प्रेरणादायक सिद्ध होगी। सप्रेम।




Sunday, 11 November 2018

"कारवाँ" काव्य गोष्ठी का आयोजन

दिनांक ११ नवंबर २०१८ को  लोदी गार्डन (नई दिल्ली ) में पर्पल पेन  द्वारा "कारवाँ" काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। दिल्ली , एन सी आर से आये लगभग २५    साहित्यकारों/कवियों/कवित्रियों अपनी रचनाओं से प्रतिभागियों के संग संग लोधी गार्डेन में पिकनिक पर आये लोगों कर और पर्यटकों  का भरपूर मनोरंजन किया। इस अवसर पर युवा उत्कर्ष साहित्यक मंच के अध्यक्ष ( श्री रामकिशोर उपाध्याय जी ), इंद्रप्रस्थ लिटरेचर फेस्टिवल के संस्थापक ( डॉ. चंदरमणी ब्रह्मदत्त जी ),  नवांकुर साहित्य सभा के महा सचिव और  समाचार पत्र  अद्भुत  इंडिया के संस्थापक सम्पादक ( श्री  काली शंकर सौम्य जी ), सुप्रभात साहित्यिक मंच के संस्थापक (श्री सुरेशपाल वर्मा जसाला जी ) और भारतीय साहित्यिक विकास मंच के अध्यक्ष  (श्री गुरचरण मेहता 'रजत' जी )  और मुंबई से पधारे मशहूर ग़ज़लकार जनाब शकील वारसी जी एवं गीतकार श्री प्रेम बिहारी मिश्र जी ने अपनी गरिमामयी  उपस्थिति दर्ज़ की और अपनी रचनाओं से सभी का मन मोह लिया। इस काव्य गोष्ठी का सफल संचालन अपने चिर परिचित अंदाज में पर्पल पेन की संस्थापक सुश्री वसुधा कनुप्रिया ने किया। ग़ज़लकार जावेद अब्बासी जी का जन्मदिन काव्य गोष्ठी के अंत में एक केक काट कर मनाया गया  और उनको सभी की बधाई और शुभकामनायें प्राप्त हुई। इस काव्य गोष्ठी के , छाया चित्रों में कैद चंद पल आप मित्रों के समक्ष प्रस्तुत हैं।  सप्रेम।
--------------------------------------------------------------------------





Tuesday, 30 October 2018

Threnody of The Truth


 Threnody of The Truth
--------------------------------

The moon
I want to pull
Out of jaws of clouds
To dispel the darkness
Shadowing over the human psyche of intolerance.

The truth
I want to reveal
With the churning of thoughts
Injustice meted out long ago
Sure, will be marginalised by so and so.

The  plough
I want to plough
Deeper and deeper to sow the seeds
To grow plants of love ignoring  power of sleaze
Bullshit ! None cares when a rapist gets his release.

The  victim
I want to see
Brave enough to come out of closet
To tell also story of partnering the crime
Doesn’t it take two words up-down to rhyme ?

The poem
I want to write
Pour my heart and cleanse my soul
May be booed as truth is a bitter pill
So is digging the grave and beans to spill.
--------------------------------------------------------------
All rights reserved/Tribhawan Kaul

Saturday, 27 October 2018

औकात



वह पढ़ा लिखा बेकार था। नौकरी का जुगाड़ कहीं भी नहीं हो पा रहा था। जगह जगह मज़दूरी भी की पर हार नहीं मानी । एक कंपनी में साक्षात्कार दे कर निकला था। आशा थी कि इस कंपनी में नौकरी लग जायेगी। भूख लग रही थी। सामने एक रेहड़ी पर मूंगफली भुनती  देख वह उस ओर अग्रसर हुआ। पटरी पर बैठे एक हट्टे कट्टे  भिखारी ने हाथ फैला दिए। अच्छा तो नहीं लगा उसे उस नौजवान को भीख मांगते देख पर " हाथ फैलाने वाले पर हमेशा दया भाव रखना चाहिए ' के संस्कारों ने मजबूर कर दिया।
" मज़दूरी क्यों नहीं करते ? भीख मांगने से तो अच्छा है। " उसने बटुआ निकलते हुए कहा।
" जब हज़ारों भीख मांग कर कमा लेते हैं तो मज़दूरी करने की क्या ज़रूरत। " भिखारी हंस कर बोला मानो उसकी पढ़ाई का मज़ाक उड़ा रहा हो।
 छोटी पॉकेट में  दो का सिक्का था। बड़ी पॉकेट में केवल एक बीस  का नोट था, जो मूंगफली के लिए और उसके घर वापसी के लिए पर्याप्त था। ना चाहते हुए भी उसने दो का सिक्का निकाला और उस नौजवान  भिखारी  को पकड़ा दिया। भिखारी  ने बड़ी ही हिकारत से उसे देखा और कहा।
" बस इतनी ही औकात है ?"
" तुमसे तो अच्छी है " उसने उत्तर दिया और अपनी मंजिल की और चल पड़ा। 
 त्रिभवन कौल  
------------------------------------------------

Friday, 26 October 2018

दोहा दोहा नर्मदा '

विभिन्न संस्थानों द्वारा प्रकाशित , २०१८ में  दिल्लीवाली (अंग्रेजी/हिंदी ), काठी का घोडा , भाव कलश  काव्य संकलनो के उपरांत  आज 'दोहा दोहा नर्मदा ' की  प्रतियाँ डाक द्वारा प्राप्त हुई।   आदरणीय आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल ' एवं प्रो (डॉ )साधना वर्मा जी द्वारा संपादित विश्ववाणी हिंदी संस्थान जबलपुर की प्रस्तुति ' दोहा दोहा नर्मदा ' संकलन में मेरे द्वारा रचित १०० दोहे सम्मलित किये गए हैं।  दोहे लेखन के लिए आदरणीय आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल ' जी ने मुझको दोहा लेखन की बारीकियां समझाते  हुए प्रोत्साहित किया जिसके लिए मैं उनका बहुत आभारी हूँ।